Jun 19, 2011

जो चीजें बेजान थीं, अब तक जिंदा हैं

अकबर का लोटा रखा है शीशे की अलमारी में
राना के "चेतक" घोड़े की एक लगाम
जैमल सिंह पर जिस बन्दूक से अकबर ने
दागी थी गोली |

रखी है !

शिवाजी के हात का कबजा
"त्याग राज" की चौकी, जिस पर बैठ के रोज़
रियाज किया करता था वो|
'थुन्चन' की लोहे की कलम है|
और लड़ाऊँ तुल्सीदास की 
'खिलजी' की पगड़ी का कुल्ला..|

जिन में जान थी, उन सब का देहांत हुआ 
जो चीजें बेजान थीं, अब तक जिंदा हैं !!

- गुलजार 

No comments:

Post a Comment